मिट्टी परिक्षण

जिज्ञासा दर्ज करें

    मिट्टी परिक्षण

    उच्च फसल खेती मे मिट्टी परिक्षण का उद्देश्य विशेष मौसम में फसल को पोषक तत्वों की आपूर्ति करने के लिए मिट्टी की सापेक्ष क्षमता निर्धारित करना, चूने की जरुरतों को निर्धारित करना और अत्यधिक लवणता या क्षारीयता जैसी समस्याओं का निदान करने के लिए है। मृदा परीक्षण का उपयोग पानी की गुणवत्ता पर नकारात्मक प्रभावों को कम करते हुए आर्थिक/कृषि संवंधी लाभ को अधिकतम करने के उद्देश्य से खाद और पंक प्रयोग संवंधित पोषक प्रवंधन के निर्णयों के मार्गदर्शन के लिए भी किया जाता है।

    नमूना चयन

    मिट्टी परीक्षण कार्यक्रम एक क्षेत्र से मिट्टी के नमूने के संग्रह के साथ शुरु होता है। मिट्टी परीक्षण का पहला बुनयादी सिद्धांत यह है कि एक क्षेत्र को इस तरह से छाँटा जाय कि मिट्टी के नमूने का रासायनिक विश्लेषण क्षेत्र की वास्तविक पोषक स्थिति को सटीक रुप से प्रतिबिंबित करेगा। इसका मतलब यह नहीं है कि सभी नमूनो को आवश्यक रुप से एक समान ही परीक्षण परिणाम दिखाना चाहिए, या दिखाएंगे, बल्कि शायद क्षेत्र के भीतर वास्तविक भिन्नताओं को प्रतिबिंबित करना चाहिए। याद रखें कि चूना और उर्वरक के लिए मिट्टी परीक्षण की सिफारिशें मिट्टी के नमूने की सटीकता से अधिक सटीक नहीं हो सकती है।

    निष्कर्षण और रासायनिक विश्लेषण

    जब एक बार मिट्टी के नमूने एकत्र और तैयार कर लिए जाते हैं फिर प्रत्येक नमूने मे उपलव्ध आवश्यक तत्वों का स्तर निर्धारित किया जा सकता है। पौधों के आवश्यक तत्वों के माप के लिए कई रासायनिक तरीकों का सुझाव दिया जाता है और उपयोग किया जाता है। पौधों के पोषक तत्वों के रासायनिक द्रव्य निकालने और विश्लेषण का मानदंड यह है कि उन प्रक्रिया को तेज, सटीक और भरोसेमंद अवश्य होना चाहिए।

    अपेक्षाकृत कम समय में मिट्टी के नमूने के साथ प्रतिक्रिया करने के लिए अधिकांश रासायनिक द्रव्य निकालने के तरीके निकालने वाले समाधान की अनुमति देते हैं, जिसमें पानी, क्षार, कमजोर और मजबूत अम्ल या इन रसायनों के संयोग शामिल हो सकते हैं। नमूना तब अलग किया जाता है और उपलव्ध पोषक तत्व के लिए घोल का विश्लेषण किया जाता है।

    मृदा परीक्षण पैरामीटर

    समाधान निकालने के अलावा, प्रत्येक मिट्टी के परिक्षण के कई अन्य मानदंड किसी मिट्टी के नमूने के लिए मिट्टी के प्रतिवेदन पर मुद्रित अंतिम संख्या निर्धारित करने मे महत्वपूर्ण हैं। इन मानदंडों मे सामिल हैं:

    • निकालने बाले घोल मे मिट्टी की मात्रा।
    • हिलाने कि समय, कार्रवाई और गति।
    • परिणामों के व्यक्त करने का तरीका (जैसे, एल बी / एकड़, पीपीएम, सूची प्रणाली)।
    • उच्च परीक्षण परिणामों के लिए “कट ऑफ” स्तर।
    • प्रयोगशाला मे उपयोग की जाने वाली कुल तकनीकें।

    पौधों के पोसक तत्वों की सान्द्रता निर्धारित करने के लिए निकाले गये घोल में विघटित पौधों के पोषक तत्व का विश्लेषण किया जाता है। परिणाम आमतौर पर मिलियन प्रति भाग (पीपीएम), प्रति एकड़ पाउंड (एलबी / एकड़)के रूप मे रिपोर्ट किया जाता है। अधिकांश पोषक तत्व के लिए, पीपीएम को दो (40 पीपीएम पोटाशियम - 80 एलबी / एकड़) गुणा करके एलबी / एकड़ में परिवर्तित किया जा सकता है। नाइट्रेट, सल्फेट और क्लोराइड के लिए अनिवार्य रुप से मौजूद सभी पोषक तत्वों को निकाला जाता है और मानक 6 से 7 इंच सतह परत के अलावा गहराई में वृद्धि का नमूना बनाया जाता है। इन मापों के लिए, निम्नलिखित सूत्र: एलबी / एकड़ – पीपीएम * 0.3 * इंच मे गहराई मे वृद्धि के द्वारा पीपीएम मे परिवर्तित किया जाता है। उदाहरण के लिए, 24 इंच की गहराई तक ली गई मिट्टी के नमूने पर एक 10 पीपीएम नाइट्रेट एन परीक्षण 72 एलबी / एकड़ (10 पीपीएम * 0.3 * 24 इंच) में परिवर्तित हो जाएगा। इस मामले मे, मिट्टी के नमूने के शीर्ष 24 इंच मे 72 एलबी / एकड़ नाइट्रेट नाइट्रोजन मौजूद थे। उपलव्ध पौध पोषक तत्व, पौधे के पोषक तत्वों की मात्रा का अनुमान निकालने में मदद करता है। निकाले गए पौध पोषक तत्वों की मात्रा निकाले गये घोल की ताकत और विभिन्न अन्य मानकों पर निर्भर करेगा। मृदा परिक्षण मूल्य एक सापेक्ष संख्या है और एक विशेष पोषक तत्व के लिए कम, मध्यम या उच्च के रुप मे व्याख्या की जानी चाहिए।